नई दिल्ली ,ग्राहकों को सेवा देने के मामले में बैंक फिसड्डी साबित हो रहे हैं। इसका अंदाजा  ‘सूचना के अधिकार’ के तहत मिली जानकारी से लगाया जा सकता है। बैंकों के खिलाफ सिर्फ एक  जुलाई से 22 दिसंबर, 2019 के बीच ग्राहकों ने रिजर्व बैंक के पास 1.46 लाख शिकायतें दर्ज कराई हैं। इस दौरान सर्वाधिक शिकायतें राष्ट्रीय राजधानी के नई दिल्ली जिले में दर्ज की गईं।

ग्राहकों ने इस अवधि में नई दिल्ली में 5,274 शिकायतें दर्ज कराईं। यह देशभर के सभी जिलों में सबसे अधिक है। यानी, राष्ट्रीय राजधानी में भी बैंक अपनी सेवा बेहतर तरीके से मुहैया नहीं करा पा रहे हैं। अगर राज्यों की बात करें तो सबसे अधिक शिकायतें उत्तर प्रदेश में दर्ज की गईं।

यूपी में कुल 13,475 शिकायतें दर्ज की गईं। इसके बाद महाराष्ट्र में 12,201 शिकायतें दर्ज की गईं। तीसरे स्थान पर दिल्ली है जहां 9,797 शिकायतें दर्ज की गईं। दर्ज शिकायतों के मामले में बिहार चौथे स्थान पर रहा।

ये मामले ज्यादा
* बिना इजाजत के सेवाओं के नाम पर रकम काट लेना।
* एटीएम से पैसा नहीं निकलने के बावजूद खाते से राशि कट जाना।
* एटीएम और डेबिट कार्ड पर गैर जरूरी शुल्क वसूलना।
* खराब नोट, सिक्कों की शिकायतें।
* इंटरनेट बैंकिंग से जुड़ी परेशानी।