नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी ( Narendra Modi) 8 नवंबर को बहुप्रतीक्षित 'करतारपुर कॉरिडोर' (Kartarpur Corridor) के भारतीय हिस्से का उद्घाटन करेंगे. इसके एक दिन बाद 9 नवंबर को पाकिस्तान (Pakistan) भी करतारपुर कॉरिडोर के अपने हिस्से का उद्घाटन कर देगा. 

भारतीय तीर्थयात्रियों के लिए पाकिस्तान (Pakistan) स्थित पवित्र सिख गुरुद्वारे करतारपुर साहिब (Kartarpur Sahib) के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन आज से शुरू हो रहे हैं. करतारपुर यात्रा के लिए केंद्र सरकार ने एक विशेष फॉर्म जारी किया है. इसे ऑनलाइन भरा जा सकता है. करतारपुर साहिब दर्शन के लिए वीजा जरूरी नहीं होगा सिर्फ पासपोर्ट (Passport) होना ही काफी होगा. 

लैंड पोर्ट्स ऑथोरिटी ऑफ इंडिया(एलपीएआई) के अध्यक्ष गोविंद मोहन ने कहा, '4.2 किलोमीटर लंबे कॉरिडोर का निर्माण सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव की 550वीं जयंती से एक सप्ताह पहले 31 अक्टूबर तक हो जाएगा.'

एलपीएआई प्रमुख ने कहा कि प्रतिदिन 5,000 श्रद्धालु गुरुद्वारा जा सकते हैं और वे उसी दिन वापस आ जाएंगे. इसे स्पष्ट करते हुए मोहन ने कहा कि श्रद्धालुओं को भारतीय सीमा पार करने वाले दिन ही करतारपुर तीर्थस्थल का दर्शन करके वापस आना होगा.

बता दें करतारपुर साहिब गुरुद्वारा पाकिस्तान के पंजाब (Punjab) प्रांत के नारोवाल जिले में स्थित है, जोकि डेरा बाबा नानक के समीप सीमा से 4.5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. यह गुरुद्वारा सिखों (Sikhs) के लिए काफी पवित्र है, क्योंकि गुरु नानक देव (Guru Nanak dev) ने अपने जीवन के 18 साल और अपना अंतिम समय भी यहीं बिताया था.