भोपाल/ नई दिल्ली : मध्य प्रदेश सरकार अब आयुष्मान योजना से आगे महा आयुष्मान योजना लाने जा रही है. 15 अगस्त से ही इस योजना की शुरुआत करने का टारगेट रखा गया है. सरकार की मंशा है कि आयुष्मान योजना से आगे का काम भी साथ ही शुरू किया जाए. इसके पीछे तर्क ये दिया जा रहा है कि आयुष्मान योजना अधूरी है, उसे कांग्रेस सरकार बड़े टारगेट के साथ पूरा करेगी. इसमें मध्य प्रदेश सरकार प्रदेशवासियों को स्वास्थ्य का अधिकार के तहत शामिल करेगी. यानी महा आयुष्मान में केवल गरीब नहीं, बल्कि प्रदेश का हर बाशिंदा इसके दायरे में आएगा और उसे मुफ्त इलाज की सुविधा मिलेगा. इस योजना को मोदी की योजना की ओवरलैपिंग भी बताया जा रहा है.

48 लाख परिवारों को मिलेगा फायदा
आयुष्मान में इलाज का हक केवल गरीबों के पास है. मध्य प्रदेश में इसके तहत 1 लाख 40 हजार गरीब परिवारों को इसका फायदा मिलता है. लेकिन महा आयुष्मान में गरीब के अलावा मिडिल और अपर क्लास को भी इस दायरे में शामिल किया जाएगा. प्रदेश के करीब 48 लाख परिवारों को इसका फायदा मिलेगा. सरकार इस तर्क के साथ महा आयुष्मान की तैयारी में जुटी है कि उसने अलग-अलग प्रदेश में आयुष्मान योजना की रिपोर्ट ली और इसके बाद राइट टू हेल्थ की मंशा लेकर महा आयुष्मान की तैयारी पूरी कर ली है.

विपक्ष का आरोप, सात महीने में एक भी वायदा पूरा नहीं हुआ
महा आयुष्मान योजना पर बीजेपी ने सरकार की मंशा पर निशाना साधा है. बीजेपी सरकार में मंत्री रहे उमाशंकर गुप्ता ने कहा कि 'एक मंत्री राइट टू हेल्थ की बात कर रहे हैं और दूसरे डॉक्टरों को लताड़ रहे हैं. इसके मायने ही यही हैं कि सरकार योजना के असफल होने पर अभी से ही बहानेबाज़ी करने लगी है. गुप्ता ने कहा कि बीते सात महीने के दौरान केवल कांग्रेस सरकार कहने का काम ही कर रही है, करके कुछ नहीं दिखा रही. कांग्रेस सात महीने में एक भी वायदा निभा नहीं पाई है और अब डॉक्टरों के सिर ठीकरा फोड़ा जा रहा है. जाहिर है ये योजना के असफल होने पर भी कहा जाएगा.

गुप्ता ने कहा कि सरकार डॉक्टरों से काम करवाये. उन्होंने कहा कि महा आयुष्मान योजना का हश्र किसान कर्ज माफी जैसा होगा. कर्ज माफ किसानों को सहकारी समितियों ने नोड्यूल्स सर्टिफिकेट नहीं दिए. इससे अब उनके पास खाद बीज नहीं मिल पा रहा है. कांग्रेस ने पलटवार करते हुए आरोप लगाया है कि बीजेपी के शासन काल में स्वास्थ्य सुविधाओं का कबाड़ा हो गया था. अब सबको इलाज के अधिकार के जरिये कांग्रेस सरकार नए इरादे के साथ काम करना चाह रही है. कांग्रेस प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी ने आरोप लगाया कि सबको इलाज के मुद्दे पर बीजेपी को तारीफ करनी चाहिए. उसके पेट में दर्द क्यों हो रहा है. कांग्रेस की कमलनाथ सरकार की मंशा है कि केवल इलाज के नाम पर औपचारिकता नहीं हो. बल्कि सबको इलाज और बेहतर इलाज दिया जाए.

ये है महा आयुष्मान योजना
- आयुष्मान योजना में मुफ्त इलाज की सीमा 5 लाख, महा आयुष्मान में 7.5 लाख.
- आयुष्मान में फायदा 1.40 लाख परिवार को, महा आयुष्मान में 1 करोड़ 88 लाख परिवार को फायदा.
- मिडिल और अपर क्लास परिवारों को 2.5 लाख का बीमा कवर.
- सभी परिवारों को दुर्घटना बीमा का भी फायदा मिलेगा, आयुष्मान में ये प्रावधान नहीं.
- मिडिल और अपर क्लास को मामलू प्रीमियम देना होगा, बाकी का इंतज़ाम सरकार करेगी.
- आयुष्मान में राज्य का बजट 1470 करोड़, महा आयुष्मान में 1570 का प्रावधान.
- कमलनाथ सरकार की मंशा - केवल गरीब नहीं, सभी को मिले इलाज की सुविधा.
- सरकारी अस्पतालों के साथ चयनित निजी अस्पतालों में मुफ्त इलाज का लक्ष्य.