हरपालपुर। 8 अप्रैल को थाना क्षेत्र अंतर्गत रेत में दफन युवक की लाश की पहचान मोहित राजपूत के रूप में हुई थी। युवक की हत्या कर लाश रेत में दफन कर दी गई थी। मृतक के परिजनों ने युवक की कथित प्रेमिका के परिवार पर हत्या का आरोप लगाया था। आखिरकार पुलिस की जांच भी वहीं आकर टिक गई। जांच में स्पष्ट हुआ कि युवक की गला दबाकर हत्या की गई थी और इसके बाद उसकी लाश रेत में गाड़ दी गई थी। पुलिस ने इस हत्याकाण्ड का खुलासा करते हुए चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जबकि एक आरोपी फरार है। 
थाना प्रभारी रामबाबू चौधरी ने बताया कि 8 अप्रैल को मवैया गांव के बफरा नाले में रेत में दफन लाश के बारे में खबर मिली थी। सूचना मिलने पर मौके पर जाकर लाश को रेत से बाहर निकालकर उसकी पहचान कराई गई थी। मृतक की शिनाख्त मोहित पुत्र राम सिंह राजपूत निवासी रगोली के रूप में हुई थी। मोहित का मवैया गांव की एक अहिरवार परिवार की लड़की से प्रेम प्रसंग चल रहा था। लड़की और मोहित के बीच प्रेम संबंधों की जानकारी लड़की के परिवार के सदस्यों को भी हो गई थी। लड़की के परिवार ने मोहित को कई बार समझाया लेकिन वह लड़की का पीछा नहीं छोड़ रहा था लड़की के चाचा मोहन, पिता मुकुंदी अहिरवार ने षडयंत्र रचा और 5-6 अप्रैल को मोहित को बहला-फुसलाकर रेलवे स्टेशन हरपालपुर से बाईक के माध्यम से लड़की के भाई महेश, महेन्द्र व गंगा अहिरवार मवैया के बफरा नाला ले गए जहां गला दबाकर उसकी हत्या कर लाश रेत में दफन कर दी थी। चूंकि लड़की की शादी होने के बावजूद मोहित उसे फोन करता रहता था और मिलने की जिद करता था। 3 अप्रैल को मोहित लड़की के पति के ननिहाल गया और मिलने की बात कर रहा था। यह जानकारी लड़की के पति ने अपनी ससुराल में बताई थी। बात लगातार बढ़ रही थी इसलिए प्रेमी को रास्ते से हटाने के लिए उसकी हत्या का षडयंत्र रचा गया।