छतरपुर। सोमवार का दिन जिले के दो परिवारों के लिए आफत बनकर टूटा है। जिले के दो अलग-अलग थाना क्षेत्रों में हुए हादसों में चार मासूम बच्चों की दर्दनाक मौत हो गई। एक हादसा जिला मुख्यालय के नजदीकी ग्राम सौंरा में सामने आया जहां तालाब में डूबने से दो चचेरे भाईयों की जान चली गई तो वहीं एक हादसा जिला मुख्यालय से 100 किमी दूर बक्स्वाहा के समीप घटित हुआ जहां ट्राली पलटने से दो मासूम बच्चों की मौत हो गई। 
मजदूर ने ट्रेक्टर में बैठाकर अपने परिवार को गांव भेजा
रास्ते में ट्रेक्टर पलटा, दो बच्चों की मौत, पत्नि सहित दो बच्चे घायल
बक्स्वाहा। जिले के दूरस्थ अंचल बक्स्वाहा के समीप सोमवार को एक दर्दनाक घटना सामने आई है। मजदूरी कर पेट पाल रहे एक मजदूर के ऊपर कुदरत का ऐसा कहर देखने को मिला जिसे सुनकर हर किसी का दिल पसीज जाए। एक सड़क हादसे में इस मजदूर के दो मासूम बच्चों की मौत हो गई जबकि पत्नि सहित दो अन्य बच्चे गंभीर हालत में घायल हो गए। 
जानकारी के मुताबिक बक्स्वाहा से दो किमी दूर जामुनझिरी रोड पर एक भीषण सड़क हादसा सामने आया है। सोमवार को ग्राम धरमपुरा सरपंच गोपाल यादव का ट्रेक्टर गिट्टी भरकर बक्स्वाहा से धरमपुरा जा रहा था तभी बक्स्वाहा में मजदूर मन्नू अहिरवार ने सरपंच के ट्रेक्टर पर अपनी पत्नि और चार बच्चों को बैठा दिया। मन्नू का पूरा परिवार ट्राली में लदी गिट्टी के ऊपर बैठा हुआ अपने गांव जा रहा था तभी रास्ते में ट्रेक्टर चालक का संतुलन बिगड़ गया और ट्रेक्टर अनियंत्रित होकर एक खाई में जा गिरा। इस हादसे के दौरान मन्नू का पूरा परिवार ट्राली के नीचे आ गया और मौके पर चीख-पुकार मच गई। हादसा इतना खतरनाक था कि मौके पर ही मन्नू के दो पुत्रों 12 वर्षीय राजकुमार और 3 वर्षीय रामप्रसाद की मौत हो गई। इस हादसे में मन्नू की पत्नि लीला पुत्री सोनम एवं एक अन्य पुत्र मुकेश भी गंभीर रूप से जख्मी हो गया। हादसे के दौरान लगभग आधे घंटे तक घटना स्थल पर घायलों की चीख-पुकारें सुनाई देती रहीं लेकिन किसी भी तरह की मदद मौके पर नहीं पहुंची। आखिरकार जब पुलिस को खबर मिली तब पुलिस ने घटना स्थल पर पहुंचकर जेसीबी से ट्राली को उठवाया और उसके नीचे दबे दो बच्चों एवं महिला लीला अहिरवार को इलाज के लिए अस्पताल पहुंचाया। हादसे के बाद मन्नू का रो-रो कर बुरा हाल है। मन्नू की आर्थिक स्थिति पहले ही बेहद कमजोर है। वह मजदूरी कर अपना परिवार पाल रहा था लेकिन अब उसके परिवार के दो बच्चे भी उससे जुदा हो गए। 
तालाब में डूबने से चचेरे भाईयों की मौत
 ओरछा रोड थाना के सौंरा निवासी राकेश बंसल व आशाराम बंसल के पुत्र सोमवार की सुबह सौंरा तालाब में नहाने गए थे। तालाब में नहाते समय अचानक डूब जाने से दोनों बच्चों की दर्दनाक मौत हो गई। जैसे ही इसकी सूचना परिजनों को लगी तो वह तालाब पहुंचे जहां पर बच्चों को देखकर परिजनों के होश उड़ गए। ग्रामीणों द्वारा घटना की सूचना ओरछा रोड थाना पुलिस को दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों बच्चों को तालाब से बाहर निकाला और जिला अस्पताल ले आए जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। ओरछा रोड थाना प्रभारी प्रकाश गड़रिया ने बताया कि सौंरा निवासी आशाराम बंसल का 12 वर्षीय पुत्र हिमांशु बंसल व राकेश बंसल का 15 वर्षीय पुत्र सचिन बंसल तालाब में नहाने गए थे। हिमांशु और सचिन दोनों चचेरे भाई हैं। सचिन भोपाल में अपनी पढ़ाई करता है। छुट्टियों में वह सौंरा गांव अपनी रिश्तेदारी में आया था। कंट्रोल रूम से सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों बच्चों को बाहर निकालकर उनका पंचनामा बनाया और पीएम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया। वहीं दो चचेरे भाईयों की मौत से परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। वहीं गांव में इस घटना से मातम पसरा हुआ है।