लंदन । अमेरिका में हजारों गोपनीय दस्तावेज प्रकाशित करने व स्वीडन में दुष्कर्म के आरोपी विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे (47) को आज लंदन में इक्वेडोर के दूतावास से गिरफ्तार कर लिया गया है। इन आरोपों के बाद असांजे ने 2012 से ही इक्वेडोर के दूतावास में शरण ले रखी थी। स्वीडन प्रत्यर्पित किए जाने के खिलाफ अपनी कानूनी लड़ाई के दौरान असांजे ने जमानत की शर्तों का उल्लंघन किया था, जिसके बाद उनके खिलाफ वॉरंट जारी किया गया था। इक्वेडोर के दूतावास में शरण मिलने के बाद असांजे ने दावा किया कि अगर उन्हें स्वीडन में प्रत्यर्पित किया गया तो उन्हें अमेरिका द्वारा गिरफ्तार किया जा सकता है और उन्हें विकीलीक्स के सैकड़ों हजारों राजनयिक गुप्त दस्तावेजों को लीक करने से संबंधित आरोपों का सामना करना पड़ सकता है।
ब्रिटेन के गृह-सचिव, साजिद जाविद ने असांजे की गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए कहा कि इक्वाडोर के दूतावास में प्रवेश करने के लगभग सात साल बाद, मैं पुष्टि कर सकता हूं कि जूलियन असांजे अब पुलिस हिरासत में हैं और यूके में न्याय का सामना कर रहे हैं। मैं इक्वाडोर को इस सहयोग के लिए धन्यवाद देना चाहूंगा। उन्होंने कहा कि कानून से ऊपर कोई नहीं है। मेट्रोपॉलिटन पुलिस ने एक बयान में कहा है कि असांजे को साल 2012 में वेस्टमिंस्टर मैजिस्ट्रेट कोर्ट द्वारा जारी वारंट पर अदालत में आत्मसमर्पण करने में विफल रहने के लिए अधिकारियों ने दूतावास से गिरफ्तार किया गया। संयुक्त राज्य अमेरिका के न्याय विभाग ने असांजे के खिलाफ आपराधिक दस्तावेजों के प्रकाशन से संबंधित आपराधिक आरोप दायर किया है। 
बचाव पक्ष ने दलील दी थी कि ये खुफिया दस्तावेज गलती से नवंबर में सार्वजनिक हो गए थे। असांजे पर साल 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में हिलेरी क्लिंटन व डेमोक्रेटिक पार्टी के कंप्यूटरों से चोरी की गई समाग्री को जारी कर रूसी हस्तक्षेप का समर्थन करने का भी आरोप है।