ज्यूरिच स्विट्जरलैंड के बैडमिंटन (संघ) के अध्यक्ष रॉबर्ट डीकॉक ने भारत में बैडमिंटन की प्रगति पर खुशी जताते हुए कहा कि उनका देश भी इसी तरह का प्रयोग करना चाहता है। भारत ने पिछले कुछ समय के अंदर कई  विश्वस्तरीय बैडमिंटन खिलाड़ी तैयार किये हैं। इस साल अगस्त में बीडब्ल्यूएफ विश्व बैडमिंटन चैम्पियनशिप के 25वें संस्करण की मेजबानी करने जा रहे स्विट्जरलैंड बैडमिंटन संघ के प्रमुख डीकॉक का मानना है कि उनके देश में भी अब लोगों का रुझान बैडमिंटन की ओर बढ़ रहा है। ऐसे में यदि अनुकूल माहौल बनाया जाए तो स्विट्जरलैंड भी विश्वस्तरीय खिलाड़ी तैयार कर सकता है। बैडमिंटन में अभी हमारे पास एक भी शीर्ष खिलाड़ी नहीं हैं।"
स्विट्जरलैंड में बैडमिंटन को अधिक लोकप्रिय बनाने के बारे में डीकॉक ने कहा, "स्विट्जरलैंड में बैडमिंटन को अधिक लोकप्रिय बनाने के लिए हमें अन्य देशों के विकास मॉडल को देखने की जरूरत है और इस संबंध में भारत हमारे लिए सबसे पहले है। भारत ने सभी बाधाओं को पारकर इस खेल में एक नई ऊंचाई को हासिल किया है और अब वह सभी वर्गो में विश्व स्तरीय खिलाड़ी तैयार कर रहा है, इसलिए हम भारतीय मॉडल का अनुसरण करेंगे।" स्वयं एक बैडमिंटन खिलाड़ी रह चुके डीकॉक ने कई खिताब जीते हैं। इस खेल को लोकप्रिय बनाने के लिए अब इसे स्कूल स्तर से  पाठ्यक्रम में शामिल कराया जाएगा। डीकॉक ने कहा, "हमारे पास मानव संसाधन सीमित हैं और हर कोई किसी न किसी काम में लगा हुआ है। फिल्हाल हमारा मुख्य लक्ष्य माता-पिता को अपने बच्चे को बैडमिंटन खिलाने के लिए राजी करना है और यह तभी संभव है जब उन्हें एहसास हो जाए कि इस खेल में अच्छे भविष्य के साथ-साथ अच्छा पैसा भी है।"उन्होंने कहा, " रास्ता कठिन है लेकिन विश्व चैम्पियनशिप जैसे टूर्नामेंटों के आयोजनों से इस खेल को लेकर लोगों में जागरूकता आने की उम्मीद है।