रायपुर । मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को ब्रिटिश संसद से न्योता को जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने फर्जी बताया है। उनका दावा है कि ब्रिटिश संसद या ब्रिटिश सरकार की तरफ से न्योता नहीं दिया गया है। ब्रिटिश संसद से निमंत्रण मिलने को लेकर बघेल ने ट्वीट किया था, उस पर अमित जोगी ने चुनाव आयोग में शिकायत भी की है। उनका आरोप है कि बघेल ने ट्वीट करके आचार संहिता का उल्लंघन किया है।

अमित जोगी ने चुनाव आयोग में शिकायत कर कहा है कि हाउस ऑफ कॉमज और हॉउस ऑफ लॉर्ड्ज्स के अध्यक्षों और वेस्टमिनिस्टर के ग्रेट चेंबर्लन संयुक्त रूप ब्रिटिश संसद को सम्बोधित करने का निमंत्रण देते हैं। अब तक ऐसा निमंत्रण दुनिया के 61 लोगों को दिया गया है।
जोगी का कहना है कि भारत में पदस्थ उच्चायुक्त कार्यालयों से मिली जानकारी कि अनुसार ब्रिटिश संसद और ब्रिटेन सरकार ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री को निमंत्रण नहीं दिया है। ऐसे में बघेल लोकसभा चुनाव के बाद ब्रिटिश संसद को सम्बोधित करने लंदन पहुंच जाते हैं, तो उनकी स्थिति बिन बुलाए मेहमान की होगी। इससे न केवल उनकी, बल्कि प्रदेश के मुखिया होने के नाते प्रदेशवासियों का भी अपमान होगा।

अमित जोगी का कहना है कि बघेल ने आचार संहिता लगने के बाद उन्हें आदिवासियों की जमीन लौटाने और नरवा, गरुवा, घुरवा, बाड़ी मॉडल के लिए ब्रिटिश संसद में बुलाए जाने को लेकर ट्वीट किया था। मुख्यमंत्री ने गलत ट्वीट करके चुनावी लाभ लेने की कोशिश की और जनता को गुमराह किया है। इस कारण चुनाव आयोग से मुख्यमंत्री के खिलाफ भादंवि की धारा 420 के तहत अपराध पंजीबद्ध करने के लिए निर्देश देने की अपील की है। अमित जोगी ने ट्वीट कर प्रधानमंत्री पर भी निशाना साधा है।