कांग्रेस महासचिव बनने के बाद पहली बार प्रियंका गांधी वाड्रा ने मंगलवार को गांधीनगर में एक जन संपर्क रैली को संबोधित करते हुए कहा कि आपकी जागरूकता से बड़ी देशभक्ति कोई नहीं है। कांग्रेस की रैली में उन्होंने कहा कि आज के दौर में रोजगार सबसे बड़ा मुद्दा है। उन्होंने किसानों की कर्ज की समस्या को लेकर भी सरकार पर निशाना साधा। देश में फैली भीड़ और सांप्रदायिक हिंसा को लेकर भी प्रियंका ने अपनी बात रखी और जनता से कहा कि ये सारी चीजें तकलीफ देती हैं।

प्रियंका गांधी के भाषण के मुख्य अंश

- सरकार से सवाल करें, जिन दो करोड़ नौकरियों का वादा किया था, वे कहां हैं? महिलाओं की सुरक्षा का वादा किया था उसका क्या हुआ? बैंक खाते में 15 लाख रुपये का वादा किया था वो कहां हैं?

- यह देश प्यार, सद्भाव और भाईचारे की नींव पर बना है। आज जो कुछ भी हो रहा है, वह दुःखद है।

- हमारी संस्थाएं नष्ट की जा रही हैं, जहां भी देखिये नफरत फैलायी जा रही है।

- कांग्रेस महासचिव बनने के बाद गुजरात में कांग्रेस की रैली में प्रियंका गांधी वाड्रा ने पहले भाषणा में कहा कि रोजगार, सुरक्षा, किसान चुनाव का बड़ा मुद्दा है।

- आप जागरूक बनें, इससे बड़ी कोई देशभक्ति नहीं, जागरूकता हथियार है।

- आप जागरूक बनें, इससे बड़ी कोई देशभक्ति नहीं। आपकी जागरुकता, आपका वोट एक हथियार है। ये ऐसा हथियार है जिससे किसी को चोट नहीं पहुंचानी है।

- जो अपनी फितरत की बात करते हैं उन्हें आप बताईए कि देश की फितरत क्या है।

- मैं आपसे आग्रह करना चाहती हूं कि इस बार सोच समझकर निर्णय लें।

गौरतलब है कि कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव के मद्देनजर प्रियंका गांधी वाड्रा को पूर्वी उत्तर प्रदेश का महासचिव नियुक्त किया है।

इससे पहले संप्रग प्रमुख सोनिया गांधी ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर खुद को पीड़ित के तौर पर पेश करने एवं राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर राजनीति करने का आरोप लगाया और दावा किया कि मोदी की 'गलत नीतियों के कारण देश के लोग पीड़ित हैं। कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार की नीतियों पर निशाना साधा और देश में कृषि संकट, औद्योगिक विकास के बाधित होने तथा बेरोजगारी के मुद्दे का उल्लेख किया।

सूत्रों के मुताबिक सोनिया ने लोकसभा चुनाव से पहले हो रही सीडब्ल्यूसी की महत्वपूर्ण बैठक में आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री मोदी राष्ट्रीय हितों से जुड़े मुद्दों का राजनीतिकरण कर रहे हैं। उन्होंने पूर्व की संप्रग सरकार की उपलब्धियों का उल्लेख किया और कांग्रेसजन से आह्वान किया कि वे देश के लिए नया नजरिया प्रदान करने के लिए आगे बढ़ें। सीडब्ल्यूसी की बैठक की शुरुआत में पुलवामा आतंकी हमले के शहीदों की याद में कुछ पल मौन रखा गया। 

इससे पहले पार्टी ने यहां साबरमती आश्रम में महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी। महात्मा गांधी ने 1930 में आज ही के दिन साबरमती आश्रम से ऐतिहासिक दांडी यात्रा शुरू की थी। गौतरतलब है कि गुजरात में कांग्रेस कार्य समिति की बैठक करीब 58 वर्षो के बाद हुई है। इससे पहले 1961 में गुजरात में सीडब्ल्यूसी की बैठक हुई थी।