गुवाहाटी । भारतीय महिला क्रिकेट टीम के मुख्य कोच डब्ल्यू.वी. रमन का मानना ​​है कि युवा क्रिकेटरों को अपने तकनीकी पहलू पर ध्यान देना होगा जिससे वे हालात खेल सकें। भारतीय महिला टीम ने इंग्लैंड के खिलाफ एकदिवसीय में अच्छा प्रदर्शन कर जीत हासिल की पर टी-20 में उसका खेल उम्मीद के अनुरुप नहीं रहा।  इसपर कोच रमन कहा, ‘‘ एक बार जब कौशल के पहलू में सुधार आयेगा तो सभी चीजों में सुधार आने लगेगा। आमतौर पर हर किसी को इस बात की जानकारी होती है कि क्या करना है, पर अगर तकनीकी पहलू अच्छा नहीं होगा तो रणनीति पर अमल करना संभव नहीं होता है। ’’ अंतिम टी20 में जीत के लिए 120 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम 118 रन ही बना सकी। भारत को आखिरी ओवर में तीन रन की जरूरत थी और अनुभवी मिताली राज 32 गेंद में 30 रन बनाकर खेल रही थी लेकिन वह दूसरे छोर पर रह गई और केट क्रास के आखिरी ओवर में उन्हें एक भी गेंद खेलने का मौका नहीं मिला। रमन ने मिताली के बल्लेबाजी क्रम के बारे में कहा, ‘‘ हमने उनसे बात की थी कि वह किस स्थान पर सहज रहेंगी और टीम के लिए भी क्या फायदेमंद होगा। टीम में हरमनप्रीत नहीं है तो ऐसे में हमें मध्यक्रम में कोई अनुभवी बल्लेबाज चाहिए थी।’’ उन्होंने कहा कि टीम में कई युवा खिलाड़ी है और अनुभव के साथ उनके प्रदर्शन में सुधार आयेगा।