रायपुर । रसिया, मंगोलिया, कजाकिस्तान, और यूरोप से ठंड के मौसम में आने वाले सैलानी पक्षियों की सुरक्षा को लेकर वन विभाग ने कार्ययोजना बनाई है। विभाग ने तय किया है कि संबंधित स्थानों पर जिला प्रशासन के साथ मिलकर विभाग ने तय किया है कि उक्त स्थानों पर मत्स्य आखेट पक्षियों के शिकार पर पूर्व में लगे प्रतिबंध का कड़ाई से पालन होगा। और जहां प्रतिबंध नहीं है वहां प्रतिबंध लगाया जाएगा।

सैलानी पक्षियों को इस तरह का माहौल दिया जाएगा ताकि उनकी आवक में गिरावट न हो। चिन्हित स्थानों के इर्द-गिर्द वाच टॉवर निर्माण करने तथा ब्लाक प्लांटेशन कराया जाएगा। प्लांटेशन कैंपा योजना से होगा। चिन्हित डेम व स्थानों के उथले हिस्से को आईलैंड (टापू) का स्वरूप दिया जाएगा ताकि मेहमान पक्षी इस आइलैंड पर बिना किसी डर भय के स्वछंद विचरण कर सकें। विभाग ने सैलानी पक्षियों की आवक में कमी पर चिंता जताई है।
पीसीसीएफ वन्यजीव एससी अग्रवाल ने कहा कि सैलानी पक्षी जहां जहां भी आते हैं वहां की सुरक्षा की समीक्षा समय रहते की जाएगी और सैलानी पक्षियों के शिकार पर पूर्ण रुपेण प्रतिबंध लगाने की भरपूर कोशिश की जाएगी। कहा कि इस विषय पर शीघ्र ही संबंधित जिलों के अधिकारियों के साथ एक बैठक की जाएगी।