लखनऊ । उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को लखनऊ एयरपोर्ट पर रोके जाने के बाद प्रदेश में विभिन्न स्थानों पर समाजवादी कार्यकर्ताओं द्वारा किए गए प्रदर्शनों से संबंध में यूपी पुलिस ने 296 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है। इस मामले में समाजवादी पार्टी के दो सांसदों सहित 46 लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज की गई है। 
ज्ञात हो कि समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव को इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में मंगलवार को आयोजित शपथग्रहण कार्यक्रम में जाने से लखनऊ एयरपोर्ट पर रोक दिया गया था। प्रशासन द्वारा लिए गए इस एक्शन के खिलाफ इलाहाबाद विश्वविद्यालय में सपा कार्यकर्ता आगबबूला हो गए और उन्होंने तोड़फोड़ और पथराव शुरू कर दिया था, जिसके बाद पुलिस ने भी एक्शन लिया था। पुलिस महानिरीक्षक मोहित अग्रवाल ने बताया विरोध-प्रदर्शन के दौरान समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी और पथराव शुरू कर दिया, जिसे नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने बल प्रयोग किया। इस घटना में 2 सीओ समेत कई पुलिसकर्मी घायल हो गए। पथराव के कारण कई वाहनों के शीशे टूट गए। इस दौरान बदायूं लोकसभा सीट से सपा सांसद धर्मेंद्र यादव घायल हो गए थे। इसके अलावा सपा कार्यकर्ताओं की पत्थरबाजी में कई पुलिसकर्मियों को भी चोटें आई थीं। उधर, अखिलेश को रोके जाने पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कानून-व्यवस्था की समस्या खड़ी होने की आशंका की वजह से अखिलेश को रोका गया। इस पर अखिलेश ने ट्वीट किया एक छात्र नेता के शपथ ग्रहण कार्यक्रम से सरकार इतनी डर गई है कि मुझे लखनऊ हवाई अड्डे पर बंधक बना लिया गया।