टोक्यो । टोक्यो ओलंपिक एक मामले में खास रहेगा। इसमें पर्यावरण प्रदूषण को खास महत्व देते हुए सभी पदक इलेक्ट्रानिक कचरे की री साइक्लिंग से बनी धातु से बनाए जाएंगे। इसी के तहत ओलंपिक आयोजन समिति ने दो साल पहले से ही लोगों से पुराने स्मार्टफोन और लैपटॉप सहित अन्य इलेक्ट्रानिक कचरे को एकत्रित करने की योजना शुरु कर दी थी, जिसका उद्देश्य पदकों के लिए धातु इकट्ठा करना था। खेल के आयोजकों ने कहा कि जितनी मात्रा में धातु मिली है, उससे उसका लक्ष्य पूरा हो जाएगा और यह री साइक्लिंग प्रक्रिया मार्च के अंत तक समाप्त हो जाएगी।
पिछले साल नवंबर में नगर निगम अधिकारियों ने 47,488 टन बेकार उपकरण एकत्रित किए थे, जिसमें से लोगों ने स्थानीय नेटवर्क को 50 लाख इस्तेमाल किए जाने फोन दिए थे। गौरतलब है कि ओलिंपिक पदक बनाने के लिए पहले भी इलेक्ट्रानिक कचरे की री साइक्लिंग से मिली धातु इस्तेमाल की जा चुकी है, जिसमें रियो ओलिंपिक भी शामिल था पर इसमें कांस्य पदकों में ही इस धातु का इस्तेमाल किया गया था।