सेक्स एक ऐसा एक्सपीरियंस है, जो न सिर्फ आपको अंदरूनी खुशी देता है बल्कि स्वास्थ्य की दृष्टि से भी यह बेहद असरदार है। सेक्स लाइफ के लिए बेहद ज़रूरी है, लेकिन आजकल की ज़िंदगी में स्ट्रेस, टेंशन और भाग-दौड़ ने सब सुकून छीन लिया है। कपल्स में सेक्स ड्राइव की कमी हो रही है। सेक्स एक्सपर्ट्स के पास अक्सर इस तरह की परेशानियों वाले मरीज और उनके सवाल आते रहते हैं कि उनमें सेक्स की इच्छा खत्म हो गई है या वह इसका भरपूर लुत्फ नहीं उठा पा रहे हैं। 


महिलाओं में सबसे ज़्यादा सेक्स ड्राइव यानी कामेच्छा मानी जाती है, लेकिन बदलते लाइफस्टाइल की वजह से अब उनमें भी यह कम हो गई है। हालांकि एक्सपर्ट्स के मुताबिक, अगर वे 4 निम्न पोषक तत्वों को अपने डाइट में शामिल कर लेंगी, तो उनकी सेक्स ड्राइव निश्चित तौर पर बढ़ेगी। आइए जानते हैं इनके बारे में: 

मैग्निशियम 
मैग्निशियम मसल्स को रिलैक्स कर क्रैम्प्स से निजात दिलाने में मदद करता है। डायटिशन सिंडी क्लिंगर के मुताबिक, मैग्निशियम इंसुलिन का लेवल मेनटेन कर पीसीओडी को दूर रखने में भी मदद करता है। इसलिए रोजाना मैग्निशयम से भरपूर चीजों का सेवन करें। प्रतिदिन कम से कम 320 मिलीग्राम मैग्निशियम शरीर के अंदर जाना बेहद ज़रूरी है। विटामिन डी 
शरीर में अगर विटामिन डी की कमी हो जाए तो इससे न सिर्फ हड्डियां कमज़ोर होती हैं बल्कि यीस्ट इन्फेक्शन, यूटीआई और वजाइना में इंफेक्शन हो सकता है। न्यू यॉर्क की इंटिग्रेटिव गाइनकॉलजिस्ट (स्त्रीरोग विशेषज्ञ) अनीता सदाती के मुताबिक, विटामिन डी ऐंटीमाइक्रोबियल कंपाउंड्स cathelicidins के प्रॉडक्शन को रिवाइव करता है। 

माका (Maca) 
इस सुपरफूड प्लांट में कैल्शियम, मैग्निशियम और विटामिन सी होता है। ये तत्व स्ट्रेस हॉर्मोन के लेवल को कम करने में मदद करते हैं। दरअसल यही स्ट्रेस हॉर्मोन सेक्स हॉर्मोन को धीरे-धीरे जड़ से खत्म कर देता है। रोजाना सुबह एक चम्मच माका का पाउडर अपने डाइट में शामिल करें। इससे निश्चित तौर पर ही फर्क दिखने लगेगा।

फाइबर 
फाइबर शरीर से एस्ट्रोजन की अत्यधिक मात्रा को निकालने में मदद करता है। यह हॉर्मोन Premenstrual syndrome (PMS) को कम करने और यूटर्स फाइब्रॉइड्स को खत्म करने में हेल्प करता है।