एक कहावत है- A family who eats together, stays together. हम सब इस कहावत को बचपन से सुनते आए हैं और कुछ हद तक मानते भी। लेकिन क्या आप जानते हैं कि वैसे कपल्स जो साथ में ड्रिंक करते हैं, हमेशा साथ रहते हैं। सुनकर अंचभा हो सकता है लेकिन ये सच है। एक स्टडी की मानें तो कपल्स की ड्रिंकिंग हैबिट उनकी कम्पैटिबिलिटी यानी रिश्ते की अनुकूलता और योग्यता को बढ़ा सकती है।
ऐल्कॉहॉलिज्स: क्लिनिकल ऐंड एक्सपेरिमेंट्ल रिसर्च नाम से की गई यह स्टडी जर्नल्स ऑफ जेरॉनटोलॉजी में प्रकाशित की गई थी। इस स्टडी के अनुसार जिन कपल्स की ड्रिंकिंग हैबिट एक जैसी है वे अलग-अलग ड्रिकिंग हैबिट्स वाले कपल्स की तुलना में ज्यादा खुश रहते हैं और उनकी रिलेशनशिप भी काफी खुशहाल रहती है। इसके अलावा अगर एक पार्टनर ड्रिंक करता है और दूसरा नहीं तो इस रिलेशनशिप से भी ज्यादा खुशहाल एक जैसी ड्रिकिंग हैबिट वाले कपल्स होते हैं।
इस स्टडी के शोधकर्ताओं ने ये भी पाया कि एक जैसी ड्रिंकिंग हैबिट वाले कपल्स अपनी बाकि हैबिट्स को भी एक दूसरे के साथ शेयर करते हैं जिससे उनकी कंपैटिबिलिटी बढ़ती है। ये बूढ़े कपल्स के लिए भी लागू होता है क्योंकि ये स्टडी 50 साल तक के कपल्स पर भी की गई है।
लेकिन जरूरी नहीं है कि हमेशा ऐसा हो कि जो कपल्स साथ ड्रिंक करते हैं उन्हीं की रिलेशनशिप खुशहाल हो। शोधकर्ताओं के अनुसार जो कपल्स काफी ज्यादा ड्रिंक करते हैं, उनके बीच अन्य कपल्स की तुलना में किसी बात पर सहमति नहीं बन पाती और तलाक तक की संभावना ज्यादा रहती है।
इस अध्ययन के अनुसार जब दोनों में से केवल एक पार्टनर ही शराब पीता है और दूसरा इससे परहेज करे तो ऐसी स्थिति में इसका पूरा असर रिलेशनशिप पर पड़ता है और ब्रेकअप और तलाक की भी संभावना बढ़ती है। अगर वाइफ ड्रिंक से परहेज करे और उसका पार्टनर ड्रिंकर हो तो उनके बीच मतभेद के साथ-साथ और भी तरह की समस्याएं होती हैं जिससे आगे चलकर रिश्ता भी खत्म हो सकता है।