नई दिल्ली,  आतंकियों के खिलाफ दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने बड़ी कार्रवाई की है. जम्मू कश्मीर पुलिस के साथ मिलकर स्पेशल सेल ने दो संदिग्ध आतंकवादियों को गिरफ्तार किया है. इनके पास से हथियार भी बरामद किए गए हैं. दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने शोपियां से दोनों की गिरफ्तारी की है. इनमें एक नाबालिग भी शामिल है.

दिल्ली पुलिस ने बताया है ये लोग देश के उत्तरी हिस्सों से हथियार खरीद रहे थे, जिनका इस्तेमाल जम्मू कश्मीर में टारगेट किलिंग के लिए किया जाता है. पुलिस ने बताया कि 11 जनवरी की शाम दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल की टीम ने शोपियां पुलिस के साथ मिल कर शोपियां इलाके से ही हिजबुल मुजाहीदीन के संदिग्ध आतंकियों को पकड़ा है. इनमें से एक नाबालिग है, जबिक दूसरे का नाम किफायतुल्लाह बुखारी है. पुलिस के मुताबिक किफायतुल्लाह हिज्बुल मुजाहीदीन के एरिया कंमाडर नावीद बाबू के सम्पर्क में था. नावीद बाबू पहले जम्मू कश्मीर पुलिस में था, लेकिन 2017 में ये पुलिस के चार हथियार लेकर भाग गया था और जाकर हिजबुल मुजाहीदीन में शामिल हो गया था.

किफायतुल्लाह हिज्बुल में शामिल होना चाहता था. पुलिस के मुताबिक वह पिछले कई महीने से उन संदिग्धों को ट्रैक कर रही है जो उत्तर भारत से हथियार जुटा रहे हैं. पुलिस ने इसके पहले दो संदिग्धों को गिरफ्तार कर उनके पास से हथियार बरामद किए थे, जो उत्तर भारत के हथियारों के तस्करों से खरीदे गए थे.

इस बीच पुलिस को खबर मिली कि हिज्बुल के संदिग्ध दिल्ली एनसीआर में छोटे हथियार खरीदने पहुंचे हैं, पुलिस का कहना है कि छोटे हथियार टारगेट किलिंग के लिए इस्तामल किया जाता है. पुलिस को जब ये जानकारी मिली तो पुलिस ने नजर रखनी शुरु कर दी. इसके बाद पुलिस की एक टीम शोपियां पहुंची और वहां की पुलिस की मदद से किफायतुल्ला को गिरफ्तार कर लिया. किफायत के पास से पुलिस ने एक पिस्टल और 14 गोलियां बरामद की हैं. पुलिस का कहना है कि वो ये पता लगा रहे हैं कि किफायतुल्ला को हथियार कहां से मिला था.

दिल्ली पुलिस के मुताबिक, सितंबर 2018 में ISIS जम्मू कश्मीर से जुड़े दो आतंकियों परवेज राशिद और जमशेद जहूर को भी हथियारों के साथ गिरफ्तार किया गया था. उसके बाद नवंबर 2018 में ग्रेनेड और दूसरे हथियारों के साथ तीन आतंकी पकड़े गए थे. इसी कड़ी में ये दो गिरफ्तारियां की गई हैं.

पुलिस का कहना है कि जम्मू कश्मीर में टारगेट किलिंग के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले छोटे हथियार नॉर्थ इंडिया के अलग-अलग शहरों से खरीदे जा रहे हैं. जम्मू कश्मीर में सक्रिय आतंकी इन हथियारों की खरीदारी कर रहे हैं. बीते साल 6 नवंबर को जो तीन आतंकी पकड़े गए थे, वो भी वेस्ट यूपी से छोटे हथियार खरीद रहे थे.