छतरपुर। आपके द्वारा हमारा और हमारे साथी डीलमणि सिंह बब्बू राजा सहित आपकी चौखट पर आए सभी गांवजनों का जो अभूतपूर्व स्वागत किया गया। वह हमारे लिए हमेशा एक ऋण की तरह रहेगा। आप सब लोगों ने कहा है कि हम चुनाव में पूरी तरह से निश्ंिचत हो जाए। यह जिम्मेदारी आप सभी ग्रामीणजनों ने अपने ऊपर ले ली है। अब हम आप लोगों को वचन देते है कि हम आप सबके गांव की हर जिम्मेदारी को निष्ठा के साथ पूरी करने का भरोसा देते है। 
छतरपुर विधानसभा क्षेत्र के कांग्रेस प्रत्याशी आलोक चतुर्वेदी पज्जन भैया आज मंगलवार को ग्राम बारी, श्यामरा, खबरी, कलानी, पिड़पा, वरद्धाहा, निवारी, हर्रइ, तलवापुरवां, ललनजूका पुरवां, खौंप, मोरवां, हमा, रिक्शापुरवां, चौकीपुरवां और ग्राम मारगुंवा पहुंचकर ग्रामीणजनों के बीच अपने उक्त उद्गार व्यक्त कर रहे थे। दलितों और समाज के अंतिम छोर पर खड़े ग्रामीणों की बस्तियों में पहुंचकर उन्होंने कहा कि आने वाली 28 तारीख को हाथ के निशान का विशेष ध्यान रखें और भारी मतों से अपना आर्शीवाद देते हुए हमें विजय बनाएं। श्री चतुर्वेदी ने कहा कि आपकी पूरी ताकत तो दिखाई दे रही है लेकिन इसके साथ ही आप सबको चौकन्ना रहना है। उनका कहना था कि मौका आने दो किसी भी गरीब, मजदूर, किसान का हम हक खोने नहीं देंगे। उन्होंने कहा कि बब्बू राजा और मैं एक साथ मिलकर समस्याओं का समाधान करने निकले है। इस दौरान श्री चतुर्वेदी ने छतरपुर के हाल का जिक्र किया और कहा कि चारों ओर गुंडाराज चल रहा है। जिसे पूरी ताकत से खत्म किया जाएगा। 
बॉक्स
जनसेवा हमारा धर्म है: पज्जन
सोमवार को सीएम की छतरपुर में हुई चुनावी सभा में भाजपा प्रत्याशी अर्चना सिंह के उस वक्तव्य का आलोक चतुर्वेदी पज्जन ने जिक्र किया और कहा कि भीषण गर्मी के दौरान प्यारे नागरिकों के घर-घर निजी खर्च पर हमारे द्वारा टैंकर भिजवाकर राहत दिलाने का काम नगरपालिका सहन नहीं कर पाई और मुझे भ्रष्टाचारी बता दिया। नगर की जनता और पानी के प्यासे लोग जानते है कि नगर पालिका अपनी इस जिम्मेदारी को अच्छी तरह निभाने की जगह इनके कर्ताधर्ता घर में दुबक कर स्वयं पानी के नाम पर मनमानी और भ्रष्टाचार कर रहे थे। मेरी इस जनसेवा पर उन्हें गुस्सा आ रहा है। उन्होंने कहा कि जनसेवा मेरा फर्ज भी है और धर्म भी है जो कभी भी नहीं रूकेगा। 
मंगलवार को ग्रामीण जनसंपर्क के दौरान श्री चतुर्वेदी के साथ शामिल लोगों में करण सिंह परमार, योगेंद्र प्रताप सिंह, दीनदयाल कुशवाहा, संदीप मिश्रा, भगवत रावत, राजेंद्र चतुर्वेदी, बृजेंद्र तिवारी, मंगल सिंह, बृजमोहन पटेल, प्रकाशचंद्र कुशवाहा, चतुर्भुज सरपंच, त्रिलोक सिंह, बहादुर सिंह, रम्मू प्रजापति, माया अहिरवार, गनपत यादव, रवि रजक, बसंता अहिरवार सहित भारी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे।